Bajrang Baan Pdf


Bajrang Baan Pdf

नमस्कार पाठको, यदि आप Bajrang Baan Pdf सर्च कर रहे हो तो सही जगह पर आये हो। साथ ही आप इसकी हिंदी लिरिक्स भी यहाँ पढ़ सकते हो। पीडीऍफ़ डाउनलोड करने के लिए डायरेक्ट लिंक दिया हुआ है।

बजरंग बाण का पाठ हिन्दू धर्म का एक पवित्र प्राचीन मंत्र है। यह मंत्र हनुमान जी की भक्ति के लिए उच्चारित किया जाता है। इसके स्मरण करने से कठिन से कठिन समस्या का निवारण भी हो जाता है। इस मंत्र को सुनने से ज्यादा स्वयं को पढ़ना चाहिए। यदि कोई भक्त स्वयं इसका पाठ करता है तो उसे तुरंत प्रभाव से फल की प्राप्ति होती है।

इस मंत्र का पाठ करने से पहले कुछ नियमो का पालन करना आवश्यक है। आज हम इस लेख में पीडीऍफ़ के डाउनलोड लिंक के साथ साथ, इसके पढ़ने की विधि और फायदों के बारे में भी विस्तार से बताएँगे। साथ ही यदि आप इस मंत्र की लिरिक्स पढ़ना चाहते है तो वो भी यहाँ पढ़ सकते है।

bajrang baan pdf download

पीडीऍफ़ फाइल डाउनलोड करने के लिए निचे दिए हुवे लिंक पर क्लिक करे।

PDF Nameबजरंग बाण पीडीऍफ़ फाइल हिंदी में
Download LinkClick Here to Save PDF File

यह भी पढ़े: Bhavishya Malika PDF Download Free

bajrang baan online

bajrang baan lyrics in hindi pdf

।। जय हनुमान जी भगवान्।।

।। दोहा।।
निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करे सनमान ।
तोहि के कारज सकल शुभ,सिद्धि करेँ हनुमान ॥
।। चौपाई।।
जय हनुमंत संत हितकारी,
सुन लीज्यो प्रभु विनय हमारी ।
जन के काज विलंब न कीजै,
आतुर दौरि महा सुख दीजै ॥

जैसे कूदि सिंधु के पारा,
सुरसा बदन पैठि बिस्तारा ।
आगे जाय लंकिनी रोका,
मारॆहु लात गयी सुरलोका ॥

जाय विभीषन को सुख दीन्हा,
सीता निरखि परमपद लीन्हा ।
बाग उजारि सिंधु महँ बोरा,
अति आतुर जमकातर तोरा ॥

अक्षय कुमार मारि संहारा,
लूम लपेटि लंक को जारा ।
लाह समान लंक जरि गयी,
जय जय धुनि सुरपुर नभ भयि ॥

अब बिलंब केहि कारन स्वामी,
कृपा करहु उर अंतरयामी ।
जय जय लखन प्राण के दाता,
आतुर है दुःख करहु निपाता ॥

जय हनुमान जयति बलसागर,
सुर समूह समरथ भटनागर ।
ओं हनु हनु हनु हनुमंत हठीले,
बैरिहि मारु बज्र की कीले ॥

ओं हीं हीं हीं हनुमंत कपीसा,
ओं हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा ।
जय अंजनि कुमार बलवंता,
शंकर सुवन वीर हनुमंता ॥

बदन कराल काल कुल घालक,
राम सहाय सदा प्रतिपालक ।
भूत प्रेत पिसाच निसाचर,
अगिनि बेताल काल मारी मर ॥

इन्हेँ मारु तोहि सपथ राम की,
राखु नाथ मरजाद नाम की ।
सत्य होहु हरि सपथ पायि कै,
राम दूत धरु मारु धायि कै ॥

जय जय जय हनुमंत अगाधा,
दुःख पावत जन केहि अपराधा ।
पूजा जप तप नेम अचारा,
नहिँ जानत कछु दास तुम्हारा ॥

बन उपबन मग गिरि गृह माहीँ,
तुम्हरे बल हम डरपत नाहीँ ।
जनकसुता हरि दास कहावौ,
ताकी सपथ विलंब न लावौ ॥

जै जै जै धुनि होत अकासा,
सुमिरत होय दुसह दुख नासा ।
चरन पकरि कर जोरि मनावौँ,
यहि औसर अब केहि गॊहरावौँ ॥

उठु उठु चलु तोहि राम दुहायी,
पायँ परौँ कर जोरि मनायी ।
ओं चं चं चं चं चपल चलंता,
ओं हनु हनु हनु हनु हनुमंता ॥

ओं हं हं हाँक देत कपि चंचल,
ओं सं सं सहमि पराने खल दल ।
अपने जन को तुरत उबारौ,
सुमिरत होय आनंद हमारौ ॥

यह बजरंग बाण जेहि मारै,
ताहि कहौ फिरि कवन उबारै ।
पाठ करै बजरंग बाण की,
हनुमत रक्षा करै प्रान की ॥

यह बजरंग बाण जो जापै,
तासोँ भूत प्रेत सब कांपै ।
धूप देय जो जपै हमेसा,
ताके तन नहिँ रहै कलेसा ॥

दोहा

उर प्रतीति दृढ सरन है,
पाठ करै धरि ध्यान ।
बाधा सब हर करैँ
सब काम सफल हनुमान ॥

collected from Google search & different website (if any issue comment us or contact us)

यह भी पढ़े: Vindheshwari Chalisa PDF

bajrang baan vidhi

बजरंग बाण एक पवित्र मंत्र है जिसका पाठ करने के लिए उचित विधि का अवश्य पालन करे। इससे आपको शुभ फल और जल्दी मनोकामना पूर्ण होगी।

मंगलवार के दिन ही इस मंत्र का पाठ करना शुरू करे।

किसी और दिन भूल कर भी इस मंत्र का पाठ करने की शुरुवात ना करे।

जैसे आज यदि आपने मंगलवार को शुरू कर दिया तो उसके बाद कभी भी आप इसकी शुरुवात कर सकते हो।

पाठ करने से पहले स्नान अवश्य कर ले।

मंत्र का पाठ करते समय फालतू की बाते दिमाग से निकाल दे।

मंत्र करने के पश्चात् दो मिनट तक भगवान बालाजी का ध्यान लगाए और अपनी इच्छा उनके सामने रखे।

दिन में सुबह के समय में ही इसका पाठ करे।

यदि आप पढ़ना और लिखना जानते है तब इसे खुद ही पढ़े।

bajrang baan ke fayde in hindi

  • इस मंत्र का पाठ करने से बहुत सारे फायदे होते है। आइये जानते है इससे होने वाले फायदों के बारे में –
  • इस मंत्र का नियमित रूप से जाप करने पर कठिन से कठिन समस्या भी समाप्त हो जाती है।
  • शरीर में किसी भी प्रकार के विकार और रोग से निजात पाया कजा सकता है।
  • किसी भी क्षेत्र में महारत हासिल करने के लिए, इस मंत्र का पाठ कर सकते हो।
  • शत्रुओ को पराजित करने के लिए।
  • किसी भी कार्य में प्रशंशा और प्रसिद्धि प्राप्त करने के लिए बजरंग बाण का अवशय पाठ करे।

किसी भी प्रकार की बाधा और विपत्ति को दूर करने के लिए, इस मंत्र को हर मंगलवार को पढ़े और उस दिन व्रत रखे।

बजरंग बाण एक शुद्ध और पवित्र मंत्र है जिसकी सहायता से बिगड़े हुवे काम आसानी से बन जाते है। इसलिए आप सभी Bajrang Baan Pdf डाउनलोड कर ले और अपने मोबाइल फ़ोन में हमेशा रखे। इस मंत्र की सहायता से हनुमान जी भगवान् अति प्रसन्न होते है और उस भक्त को हमेशा आने वाली मुसीबतो से भी बचा के रखते है।
सभी हनुमान भक्त कमेंट सेक्शन में “जय हनुमान ” अवशय लिखे।

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *