Download Shani Chalisa in Hindi Pdf : भगवान शनि देव का भक्ति स्त्रोत


shani chalisa in hindi pdf

भगवान शनि देव, जिन्हें शनैश्चर भी कहा जाता है, हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण पूजनीय देवता हैं। उनका व्रत, पूजा, और Shani Chalisa पठन करने से जीवन में आध्यात्मिक सुख शांति और धन समृद्धि का वरदान प्राप्त होता है|

यदि आप Shani Chalisa in Hindi Pdf डाउनलोड करने के बारे में जानना चाहते हैं, तो यहां नीचे दिए हुए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके, डाउनलोड कर सकते हो| इस लेख में Shani Chalisa क्या है, Shani Chalisa का पाठ करने के नियम और Shani Chalisa का पाठ करने के लाभ और Shani Chalisa की लिरिक्स दी गई है| तो चलिए, शनि देव के आशीर्वाद को प्राप्त करने का तरीका जानते हैं और भगवान शनि देव की कृपा प्राप्त करते हैं।

Shani Chalisa in Hindi Pdf की जानकारी

PDF Name Shani Chalisa in Hindi Pdf
Size 895 KB
Langauge Hindi
Category Religion & Sprituality
Upload on 9 Nov 23
Download Link Available

Shani Chalisa in Hindi Pdf क्या है?

Shani Chalisa in Hindi Pdf एक प्रमुख हिन्दू धार्मिक पवित्र पाठ है| जिसे भगवान शनि देव की पूजा और व्रत के समय बड़े भक्ति भाव से पढ़ा जाता है। शनि चालीसा एक 40 श्लोकी पाठ होता है, जो शनि देव की कृपा पाने वाले मंत्र का गुणगान करता है| जिस भगवान शनि देव की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त होती है|

Shani Chalisa का पाठ करने से जीवन में होने वाले दुष्ट प्रभाव को दूर किया जा सकता है| और जीवन में सुख-शांति की प्राप्ति होती है| यहाँ आप जान सकते हैं कि Shani Chalisa क्या है और इसको पाठ करने से क्या-क्या लाभ प्राप्त होते हैं|

जो भक्तगण जीवन में धार्मिकता और आध्यात्मिकता प्राप्त करना चाहते हैं, वह Shani Chalisa का पाठ कर सकते हैं| इसका पाठ करने से भक्तों के सभी दुख संकट दूर हो जाते हैं और शनि ग्रह की बुरी दशा भी खत्म हो जाती है|

Shani Chalisa का PDF फॉर्मेट प्राप्त करने के लिए, नीचे दिए गए Download Link पर क्लिक करें| इसके बाद अपने मोबाइल फोन या लैपटॉप में सेव कर ले| अब आप शनि चालीसा का पाठ डिजिटल फॉर्मेट में भी कर सकते हैं|

शनिदेव का आशीर्वाद लेने के लिए Shani Chalisa in Hindi Pdf का पाठ करना जरूरी है| लेकिन इस पाठ को करने के कुछ नियम होते हैं| यदि आप इन नियमों का पालन नहीं करते हो तो शनि चालीसा का पाठ करने का कोई मतलब नहीं है| इसलिएअब हम जानते हैं कि शनि चालीसा का पाठ कैसे किया जाए और इसके नियम क्या-क्या होते हैं|

Shani Chalisa का पाठ करने के नियम

नीचे दिए गए नियमों का पालन करके Shani Chalisa in Hindi Pdf का पाठ करने से भक्तगणों की सभी परेशानियां दूर हो जाएगी और जीवन में सुख शांति की प्राप्ति होगी| इसलिए नीचे दिए गए नियमों को ध्यान पूर्वक पढ़िए और इन पर अमल कीजिए|

  1. शुद्धि और स्नान: Shani Chalisa PDF का पाठ करने से पहले अपने शरीर की शुद्धि अवश्य कर ले| स्नान करके शरीर की शुद्धि की जा सकती है|

  2. पाठ करने का उचित समय: वैसे तो आप हमेशा शनि चालीसा का पाठ कर सकते हो| लेकिन शनिवार को सुबह के समय, किसका पाठ करना उचित माना गया है| और इसे शुभ फल की प्राप्ति होती है|

  3. पूजा के उपाय: Shani Chalisa का पाठ करने से पहले भगवान शनि देव की मूर्ति के समक्ष धूप अगरबत्ती या दीपक अवश्य जलाएं| उसके बाद शनि भगवान को तेल और प्रसाद चढ़ाएं| उसके बाद शनि चालीसा का पाठ करें|

  4. ध्यान और भक्ति: Shani Chalisa pdf का पाठ करते समय अपने मन को बिल्कुल भी विचलित न होने दे| और अपना पूर्ण ज्ञान शनि भगवान की ध्यान और भक्ति में लगाएं|

  5. दान: भगवान शनि देव को तेल और प्रसाद चढ़ाने के बाद, गरीबों को दान अवश्य करें|

  6. शनि आरती: शनि चालीसा का पाठ करने के बाद, भगवान शनि देव की आरती का गुणगान जरूर करें|

  7. नियमितता: शनि चालीसा का पाठ नियमित रूप से करते रहे| और विशेष रूप से शनिवार को यह पाठ करना बिल्कुल भी ना भूले| इससे आपको जल्दी से जल्दी फल की प्राप्ति होगी|

  8. ध्यान और संतोष: Shani Chalisa का पाठ करते समय अपने शरीर का ध्यान एकाग्रचित करें और मन में संतोष बनाए रखें| इससे आध्यात्मिकता की प्राप्ति होगी|

ऊपर बताए गए नियम Shani Chalisa in Hindi Pdf में भी दिए गए हैं| अब हम जानते हैं की शनि चालीसा का पाठ करने से क्या-क्या लाभ की प्राप्ति होती है|

Shani Chalisa in Hindi Pdf का पाठ करने के लाभ

  1. शनि ग्रह के दुष्प्रभाव का अंत: Shani Chalisa in Hindi Pdf का पाठ करने से शनि ग्रह के दुष्प्रभाव को खत्म किया जा सकता है| शनि ग्रह के दुष्प्रभाव से जीवन में कई बार मुश्किलों का सामना करना पड़ता है| इसलिए इन शनि चालीसा का पाठ करने से जिंदगी में कभी भी मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ेगा|

  2. अध्यात्मिक विकास: Shani Chalisa का पाठ करने से आध्यात्मिक विकास का प्राप्त होता है| मन में शांति बनी रहती है और दिमाग विचलित नहीं होता है|

  3. आर्थिक सुधार: Shani Chalisa का पाठ करने से जीवन में कभी भी आर्थिक संकट नहीं आता है| और आपके व्यापार और नौकरी में पैसों की हमेशा समृद्धि होती रहेगी|

  4. रोग निवारण: Shani Chalisa का पाठ करने से शरीर के सभी रोगों का निवारण हो जाता है| पेट संबंधी रोगों का निवारण के लिए, शनि चालीसा का पाठ कर सकते हैं|

  5. परिवारिक सुख: इसका पाठ करने से परिवार में लड़ाई झगड़ा खत्म हो जाते हैं और पारिवारिक सुख की प्राप्ति होती है|
  6. बुराइयों से मुक्ति: Shani Chalisa का नियमित रूप से पाठ करने से जीवन में आने वाली सभी बुराइयों से मुक्ति मिल जाती है| और सब काम अच्छे होने लगते हैं|

  7. मानसिक शांति: यदि आपका मन अस्थिर रहता है तो शनि चालीसा का पाठ करें| इससे आपको मानसिक शांति की प्राप्ति होगी|

Shani Chalisa in Hindi Pdf डाउनलोड करें

Shani Chalisa in Hindi Pdf” हमारे धार्मिक विरासत में एक महत्वपूर्ण पवित्र भक्ति पाठ है जो भगवान शनि की महिमा को गुणगान करता है और उनकी कृपा को प्राप्त करने का माध्यम होता है। यदि आप Shani Chalisa का पाठ करने का इच्छुक हैं और इसे डिजिटल रूप में पढ़ना चाहते हैं, तो आप शनि चालीसा को पीडीएफ़ फॉर्मेट में आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

नीचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके, Shani Chalisa Pdf को डाउनलोड कर सकते हो|

Download Shani Chalisa PDF in Hindi

 

Shani Chalisa लिरिक्स इन हिंदी

Shani Chalisa का पाठ करने से भगवान शनि की कृपा प्राप्त होती है और दुखों का निवारण होता है। यह पाठ शनि ग्रह के दुष्ट प्रभावों को दूर करने में सहायक हो सकता है और जीवन में सुख-शांति की प्राप्ति में मदद कर सकता है।

॥ दोहा ॥
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत आयो जो अवसर, ब्रह्मादिक सुजान॥

॥ चौपाई ॥
चालीसा श्री शनिदेव की, जो कोई नर गावै।
राहु केतु को ग्रह प्रभु, चालीसा पाठ करावै॥

जय गणपति अविघन स्थानन, प्रिय भक्तन हितकारी।
सुजन सुनहु विनय राजा, राखहु जीवन भारी॥

जय गिरिराज किशोरी कुमार, जय उर गोपाल भवान।
दिन दयाल कालिकामाला, सुधरहु नवनीत बिहान॥

जय शिव विराचित करौर सिद्धी, गौरी नंदन नमनिहा।
विज्ञान बुद्धि बिपिन कुमारी, बल हनुमान समानिहा॥

जय सिया राम लक्ष्मण, जय भगत हनुमान।
कहें शनि कुमार बलवान, बैठे सुत बचन रञुमान॥

जय रूद्र द्वारका सरथि, जय कटु कटु भूषण।
चालीसा यह पाठ करवाए, बारह को गरीब प्रनाम॥

॥ चौपाई ॥
प्रेम प्रतीतिद्वार बली, उनके दर्शन होत कराला।
कहे भगत भवानीशंकर, पाठ कराइ चालीसा अखिल दुःख हराला॥

चालीसा नित्य कर व्रत नैनी, सुनेहु नाथ नित गावहीं।
मंगल कारण बलिहारी, सदा सुहावे नित बसहीं॥

॥ चौपाई ॥
चालीसा इस पढ़ें हमेशा, कृपा करहु करुणा निधाना।
माता पिता ब्राता भ्राती, संकट में पूजहु सर्वजना॥

जय अन्जनी सुत महाबली, बुद्धि विवेक देहु मोहीं।
बैरी भाग विजय पावही, हरहु कल्याण गुण रोहीं॥

जय जय श्री शनिदेव, करो अपनो दयाल।
गोविंद काशीवाल श्रीमान, करत हैं शनि की सेवा॥

॥ चौपाई ॥
चालीसा पढ़े शनि के भक्त, सब सुख लहे अब सर्वदा।
शनि की आराधना से ही, होत हैं मनोकामना सब पूरी जरूर होदा॥

अंत में सभी भक्तगणों को मैं यही कहना चाहूंगा कि यदि आप भी जीवन में सुख शांति और वैभव की वैभव की प्राप्ति करना चाहते हो तो Shani Chalisa in Hindi Pdf का पाठ अवश्य करें| ऊपर PDF का लिंक दिया हुआ है, उसे पर क्लिक करके शनि चालीसा पीडीएफ को डाउनलोड कर ले| अन्य किसी सहायता या प्रॉब्लम के लिए आप हमें कमेंट करके बता सकते हो| हमारे साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद|

Report It

If the purchase or download link of Download Shani Chalisa PDF in Hindi is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT to us by contact us form or by commenting send the appropriate required action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost..   

Also Download : – Durga Saptashati Pdf ||संपूर्ण दुर्गा सप्तशती पाठ पीडीएफ|

 

 
 

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *